Breaking

शुक्रवार, 6 मार्च 2020

अगर करियर बनाने की उम्र में आप वक़्त बरवाद कर रहे हो तो ये पोस्ट सिर्फ आपके लिए है. 2 मिनट समय निकाल कर पूरी पोस्ट पढें आपका जीवन सही track पर आ जायेगा.


अगर करियर बनाने की उम्र में आप वक़्त बरवाद कर रहे हो तो ये पोस्ट सिर्फ आपके लिए है. 2 मिनट समय निकाल कर पूरी पोस्ट पढें आपका जीवन सही track पर आ जायेगा.

पहले आपकी कुछ आदतों के बारे में बात करते है-facebook, youtube,instagram, whatsapp, tiktok, games, नशा,घूमने या फिर किसी से बात करने में आपको बेहद मजा आता होगा.इन्ही सब में से कुछ आदतों की लत आपको लग चुकी होगी जिसकी वजह से आपका पूरा दिन बरवाद हो जाता है और आप अपने काम/पढ़ाई को वक़्त नहीं दे पाते.

अब आज के टाइम में कुछ लोग youtube पर वीडियो बनाते है की सब चीज़ छोड़ दो 18-18 घंटे पढ़ाई करो,पागल हो जाओ, जीवन से सब चीज़ निकाल बाहर करो और सिर्फ लक्ष्य पे ध्यान लगाओ,दिन भर काम करो, दिन भर पढ़ाई करो.आप इन वीडियो को देख कर खुश हो जाते हो कि आजसे मैं भी 10-10 घंटे 18-18 घंटे पढ़ाई करूँगा.मैं सोशियल मीडिया यूज़ नहीं करूंगा और मैं आजसे ही सारे काम अच्छे से ही करूँगा.

आप ट्राई भी करते है लेकिन ज्यादा दिनों तक ऐसा नहीं कर पाते और फिर से demotivate हो कर आप ये सोचते हो मैं अपनी लाइफ में किसी भी चीज़ को सेट नहीं कर पा रहा हूँ.अब एक बात बताइए-यदि आपको किसी से बात करने या सोशियल मीडिया यूज़ करने या किसी गेम को खेलने या किसी भी काम को करने से खुशी मिल रही है तो आप उसे क्यों बंद करना चाहते हो? ये सारी चीजें इंसानों के इस्तेमाल के लिए ही बनी है.

 सब चीजें छोड़ कर आपको किसी जंगल का सन्यासी नहीं बनना है. मेरी नजर में सन्यासी वो नहीं है जो घण्टो अकेला बैठ के तपस्या कर सके.मेरी नजर में सच्चा सन्यासी वो है जो अपने शौक और अपने important कामों को बैलेंस करना सीख जाए.आपकी सबसे बड़ी समस्या ये है कि आपने कभी चीजों को बैलेंस करना सीखा ही नहीं.उदाहरण-यदि मुझे खाना खाने से बहुत प्यार है और मेरे लिये दिन भर में 6 रोटी जरूरी है और प्यार होने की वजह से मैं 100 रोटी खाने की कोशिश कर रहा हूँ तो कुछ दिनों या कुछ सालों में बीमारी से मेरी मौत हो जाएगी.

आप हर दिन यही करते हो-जब आप किसी से बात करते हो तो दिन भर पागलों की तरह उसी के बारे में सोचते रहोगे, सोशियल मीडिया चला रहे हो तो दिन भर चलाओगे, नशा कर रहे हो तो दिन भर उसी के बारे में सोचते रहोगे.दोस्तों आपको जो करना है करो लेकिन अपने आप से सच कह दो की हाँ मुझे इस काम को करने में खुशी मिलती है मैं इस काम को दिन भर में इतनी देर करूँगा और बाकी का पूरा टाइम मैं अपने काम को अपने भविष्य को बनाने में लगाउंगा.

उन सभी आदतों के लिए एक टाइम फिक्स कर दो नही तो दिन भर एक ही चीज़ के बारे में सोचते रहोगे और अंत मे आपकी लाइफ़ बुरी तरह बरवाद हो जाएगी.याद रखो किसी भी चीज़ की अति ठीक नहीं होती.6 रोटी की कैपेसिटी है तो 8 खा सकते हो लेकिन हर दिन 100 खा रहे हो तो अंत बुरा होगा.इसलिए समझदारी के साथ सभी चीजों का बैलेंस बनाना सीखो.तभी आप जीवन मे खुश रह पाओगे और सब कुछ हासिल कर पाओगे.

दोस्तों अगर इस पोस्ट से आपकी थोड़ी भी मदद हई होगी तो इस पोस्ट को लाइक करके yes कमेंट करें :) आपके कमेंट से ही मुझे पता चलेगा की ये सभी पोस्ट आपके काम आ रहे है.दोस्तों फिल्मों की नकली कहानी शेयर करने से बेहतर ऐसी पोस्ट भी शेयर किया करें आपके एक शेयर से बहुत से लोगों को हिम्मत और सही रास्ता मिलेगा. इस पोस्ट को शेयर जरूर करें.इसी तरह और भी motivational पोस्ट पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट से जुड़े रहे करें :) 

पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद.

5 टिप्‍पणियां: